Ultimate magazine theme for WordPress.

होली के रंग छुड़ाने के 3 असरदार आसान और घरेलू तरीके

1

होली के रंग
होली रंगों से भरा त्यौहार है। होली के रंग बड़े प्यारे होते हैं । होली कोई राज्य में एक दिन तो कोई राज्यों में पांच दिन भी खेली जाती है।  इसी लिए उसको रंग पंचमी के नाम से भी जाना जाता है।  होली बिना रंगों और पानी के खेलने मज़ा नही आता।  कोई लोग होली खेलने के लिए प्राकृतिक रंग का इस्तेमाल करते है और कोई लोग केमिकल युक्त रंग से होली खेलते है। होली में रंगों से खेलते समय तो हमें बहुत मजा आता है लेकिन होली खेलने के बाद जब रंग निकालना होता है तब सारा दम निकल जाता है। 

जो प्राकृतिक रंग होते हैं उन्हें निकालने में ज़्यादा तकलीफ़ नहीं होती। लेकिन जो केमिकल वाले रंग होते हैं वह जल्दी से नहीं निकलते।होली खेलने के लिए जाने से पहले ही नारियल का तेल या सरसो का तेल लगाना चाहिए जिस से रंग अपने शरीर पे लगे नहीं और लगे तो आसानी से निकल जाये.और अगर रंग शरीर पर रह जाये तो उसे रगड़ के नही निकाल ना चाहिए इससे आपकी त्वचा को नुकशान हो सकता है।    

लेकिन कुछ घरेलू नुश्खे अपना के हम इन रंगों से आसानी से छुटकारा पा सकते है। और कुछ नुस्खे ऐसे भी है जिससे बालों को भी ख़राब होने से बचा सकते है। और ये रंग छुड़ाने के नुस्खे का सामान आपको बहार ढूंढने की जरुरत नहीं पड़ेगी। वो हमे आसानी से घर में रोजिंदा जीवन में इस्तेमाल करने वाली चीजें ही हैं । सबसे पहले हम होली खेलने के बाद बालों का रूखापन दूर करने के बारे में बताएँगे . 

हेयर पैक

ये हेयर पैक से हम रंगोकी वजह से बालों को बे जान होने से बचा सकते है। जिस के लिए हमे थोड़ा सा मिल्क पाउडर को थोड़े से दूध में मिला के घोल तैयार करना है .ये घोल में हमे थोड़ा सा शहद मिलाना है। ये घोल बालों में लगा के आधा घंटा लगाके बाल खुले छोड़ने है और बाद में बाल शैम्पू से धोने है। 

इससे आप के बाल पहले जैसे शाइनी और स्मूथ हो जायेंगे। बाल धोने के थोड़ी देर पहले दही लगा के रहने दो और शैम्पू करलो इससे भी बाल मुलायम और चमकीले हो जाते है .


अब हम जानेंगे की मुँह और बदन के बाकि हिस्सों से कैसे स्क्रब, पैक और अलग अलग तरीकों से  होली के रंग निकाला जा सकता है .

घर मे रही ४-५ अलग अलग दाल का उपयोग कर के एक स्क्रब तैयार करे उसमे थोड़ा सा कच्चा दूध मिला के मुंह पे लगाए थोड़ा टाइम रहने दे. आप चाहे तो इसमें थोड़ा सा निम्बू भी दाल सकते है  और  बाद में हलके हाथों से  घिस के निकाले इसे हमे होली के पक्के रंगों से छुटकारा मिल जायेगा। 

ऐसे ही एक जाना माना तरीका भी है जिस से हम रंग आसानी से निकाल  सकते है। चने के आटे में थोड़ा दूध और निम्बू मिला कर एक घोल  तैयार करे  और उसे अपने शरीर पर जहा से रंग  निकल न रहा हो वहा लगा ले और १५ मिनट तक रहने दे और घुन घुने पानि से हाथ मुंह धो ले।

बेसन और दूध के साथ थोड़ा सा मुली का रस मिला के एक पेस्ट बनाये इसे चहेरे पे लगाए और थोड़ी देर बाद चेहरे को धो ले इसे चेहेरे से होली के रंगों से मुक्ति मिल सकती है.

होली खेलने से पहले हम लोग तेल तो लगाते ही है अगर होली के रंग से बचना हो तो हम मेकप लगा सकते है जिसे आप सुन्दर भी दिखोगे और रंगों के इफ़ेक्ट से भी बच जाओगे लेकिन इतना ध्यान रखे की मेकप वॉटरप्रूफ होना चाहिए.

अगर हम सिर्फ गुलाल के साथ होली खेल रहे है तो उसे निकाल ने भी पानी का इस्तेमाल कर ने से पहले उसे सूखा ही साफ़ कर लें इसके बाद ही पानी से साफ़ करे जिसे गुलाल पूरे शरीर पर ज्यादा फेलेगा नहीं।

होली खेलने टाइम रंग आंख में और मुंह में ना जाए उसका ध्यान रखे। अगर आंख में रंग जाता हैं तो उसे तुरन्त ही पानी से धो ले क्योंकि रंग आंख में जाने की बजे से आंखों में जलन हो सकती है। रंग आंखों में ना जाए उसके लिए हमें चस्मा पहेनना चाहिए। रंग मुंह में जाने की बजे से होंठ जल सकते हैं। जायदा केमिकल वाले रंग नुक़सान कारक साबित हो सकते है।

छोटे बच्चो को केमीकल वाले होली के रंग से दूर ही रखना चाहिए क्योंकि अगर उन्होंने को रंग गलती से मुंह में डाल दिया तो उनके लिए ये बहोत ही भारी पद सकता है।होली हमें खेलनी चाहिए लेकिन बहुत ध्यान रख के और सावधानी से खेलनी चाहिए। होली खेलने के टाइम खुदको या किसी और को रंगों से या किसी और तरीके से नुकसान ना हो ऐसे सावधानी बरतनी चाहिए। होली के रंग औरगेनिक ही लाने चाहिए जिस से किसी को परेशानी ना हो और अगर केमिकल वाले  रंगों से खेल रहे हो तो घरेलू नुश्खे अपना के रंगों को निकाल सकते है और किसी भी तरह के नुकसान से बचा सकते है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.